Loading...

Proceeding
Sno Hearing Date Procceding Next Hearing Date & Time Status
1 03-10-2020 Commissions order for hearing 05-11-2020
15:30:00
Under Process
2 05-11-2020 अनावेदक क्रमंाक 1 की ओर से श्री राजकुमार कुशवाहा, श्री रामजी कुशवाहा एवं श्री दिलीप साहू विडियों काॅफेरंेसिग के माध्यम से उपस्थित।
अनावेदक क्रमंाक 2 की ओर से श्री रंजीत कुमार, कार्यपालन अभियंता (नगर संभाग-दक्षिण) स्वयं उपस्थित।
2. अनावेदक क्रमंाक 2 के द्वारा पूर्व में प्रस्तुत जवाबदावा का यदि अनावेदक क्रमंाक 1, प्रतिउत्तर प्रस्तुत करना चाहे तो सुनवाई दिनांक के एक सप्ताह पूर्व तक आयोग कार्यालय में प्रस्तुत करें साथ ही प्रतिउत्तर की एक प्रति अनावेदक क्रमंाक 2 को भी देवें।
3. प्रकरण अंतिम तर्क हेतु दिनांक 05.12.2020 को अपरान्ह 3ः30 बजे प्रस्तुत किया जावे।
05-12-2020
15:30:00
Under Process
3 05-12-2020 अनावेदक क्रमंाक 1 की ओर से श्री राजकुमार कुशवाहा, एवं श्री दिलीप साहू स्वयं उपस्थित।
अनावेदक क्रमंाक 2 की ओर से श्री रंजीत कुमार, कार्यपालन अभियंता (नगर संभाग-दक्षिण) स्वयं उपस्थित।

2. अनावेदक क्रमंाक 2 के प्रतिनिधि ने कहा कि छ0ग0 राज्य विद्युत प्रदाय संहित की कंडिका 4.53 के अनुसार अनावेदक क्रमंाक 1 दुर्गा विहार के निवासियों से विद्युत संयोजन हेतु परिगणित राशि की माॅंग की गई है। अनावेदक क्रमंाक 1 की ओर से श्री राजकुमार कुशवाहा ने बताया कि राशि लोड के अनुसार न माॅग कर अधिक मांगी जा रही है।

3. उपरोक्त कथनों से प्रतीत होता है कि राशि की गणना में दोनों पक्षों के मध्य असमहति है। कतिपय तकनीकी जटिलता के कारण यह असहमति संभावित है। अतः आयोग यह उचित समझता है कि इस हेतु आयोग के किसी अधिकारी को इसकी छानबीन कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने हेतु अधिकृत किया जाए। तदनुसार धारा 128 विद्युत अधिनियम, 2003 द्वारा विहित शक्तियों का प्रयोग कर यह निर्देश दिया जाता है कि श्री एम.एस. रत्नम, सचिव यह छानबीन कर अपना प्रतिवेदन आयोग के समक्ष एक माह के भीतर प्रस्तुत करें।

4. प्रकरण में अगली सुनवाई उपरोक्त प्रतिवेदन प्राप्त होने के उपरांत निश्चित कर सूचित की जावेगी।
---- Under Process
4 24-12-2020 अनावेदक क्रमंाक 1 की ओर से श्री राजकुमार कुशवाहा स्वयं उपस्थित।

अनावेदक क्रमंाक 2 की ओर से श्री रंजीत कुमार, कार्यपालन अभियंता (नगर संभाग-दक्षिण) स्वयं उपस्थित।

2. आयोग के सचिव द्वारा दिए गए जाॅच प्रतिवेदन के अनुसार दुर्गा विहार काॅलोनी के निवासियों को स्थायी बिजली कनेक्शन देने हेतु जारी किए गए माॅग पत्र में कोई तकनीकी त्रुटि प्रकट नहीं हुई है। इस तथ्य को अनावेदक क्रमंाक 1 के प्रतिनिधि ने भी स्वीकार किया, परन्तु उनका कहना है कि माॅग पत्र में जो राशि मांगी गई है उनके अनुसार स्थायी कनेक्शन हेतु प्रति कनेक्शन एक किलो वाॅट के लिए लगभग 54,000-रूपये का खर्च आ रहे है जो कि अत्यधिक है।

3. अनावेदक क्रमंाक 2 के प्रतिनिधि ने कहा कि माॅंग पत्र में भू-खण्ड के क्षेत्रफल के आधार पर भी गणना की जाती है। छोटे भू-खण्ड के लिए एक किलावाॅट हेतु 32,000-रूपये का खर्च आ रहे है और बड़े भू-खण्ड के लिए 54,000-रूपये।

4. उपरोक्त तथ्यों के प्रकाश में चूंकि अनावेदक क्रमंाक 1 ने यह स्वीकार कर लिया कि अनावेदक क्रमंाक 2 द्वारा जारी बिल नियमों के आधार पर सही है। अतः दोनों पक्षों की सहमति के आधार पर यह प्रकरण नस्तीबद्ध किया जाता है। अनावेदक क्रमंाक 1 यदि विद्युत प्रदाय संहिता में कोई सुझाव पृथक से देता है तो उस पर नियमानुसार विचार कर कार्यवाही की जावेगी।
---- Disposed